// // Leave a Comment

लाल किताब अनुसार कुंडली में शुभ और अशुभ ग्रह


इल्मे ज्योतिष लाल किताब में आप सभी का स्वागत है । आप सभी को नजूमी की तरफ से नमस्कार।
आज बात करेंगे अकेले बैठे हुए ग्रहों के शुभ और अशुभ प्रभाव की- लाल किताब ज्योतिष के अनुसार कोई भी ग्रह किसी  भी खाना नंबर में अकेला बैठा हो और किसी भी ग्रह के दृष्टि में ना हो तो ऐसा ग्रह शुभ प्रभाव वाला होगा।
आएं अब जानने की कोशिश करते हैं कि अकेले अकेले बैठे ग्रहों की हालत क्या होगी। कौन सा ग्रह केवल अकेला ही बैठा हो तो वह क्या प्रभाव देगा ।

√बृहस्पति अगर अकेला बैठा हो कभी मंदा असर ना देगा

√सूरज अकेला बैठा हो आदमी खुद मेहनत करके अमीर बन जाएगा

√चंद्रमा अकेला बैठा हो अपनी दया और नरमी से फांसी तक माफ करवा लेने की हिम्मत रखेगा -अपने खानदान को नष्ट नहीं होने देगा यानी कि अपने कुल रक्षक होगा।

√शुक्र अकेला हो कभी मन्दा ना होगा यदि होगा तो किसी के साथ होने पर ही मन्दा होगा

√मंगल अकेला हो तो चिड़िया घर का कैदी  बकरियों में पला शेर रोका यानी ऐसा मंगल कभी भी आप हमला नहीं करेगा मंदा असर नही देगा ।

√बुध अगर अकेला बैठा हो तो इसका फल थोड़ा सा हट कर होगा ऐसा जातक बहुत ही अव्वल दर्जे का लालची और देश प्रदेश में खाली चक्र लगाने वाला होगा

√ शनिचर अगर अकेला बैठा हो तो अकेले सूरज के साथी खाली बुध का काम देगा ।

√राहु अकेला बैठा हो तो हर तरह से आपकी रक्षा करेगा पर माली (धन)हालात की शर्त न  होगी ।

√केतु अगर अकेला बैठा हो तो हर समय  राहु के इसारे पर चलेगा -जैसा राहु कहेगा वैसा ही केतू ही करेगा ।

जब दृष्टि की नजर से बाहर कोई भी ग्रह किसी भी खाना नंबर में अकेला बैठा हो तो उसके चंगे मन्दे असर के लिए हम नीचे दिए  जानकारी के हिसाब से देखेंगे|

★बृहस्पति अकेला खाना नंबर 6 7 10 में अमूमन मंदा असर देने वाला होगा।
खाना नंबर 1 2 3 4 5 8 9 11 12 में अमूमन नेक असर देने वाला होगा।

★सूरज अकेला खाना नंबर 6 7 10 में अमूमन मन्दे असर का होगा खाना नंबर 1 2 3 4 5 8 9 11 12 में नेक असर देने वाला होगा ।

★चंद्रमा खाना नंबर 6 8 10 11 12 में मन्दे  असर का होगा -खाना नंबर 1 2 3 4 5 7 9 में अमूमन नेक असर देगा।

★शुक्र खाना नंबर 1 6 9 में अमूमन मन्दा  असर देने वाला होगा
खाना नंबर 2 3 4 5 7 8 10 11 12 में नेक असर का होगा ।

★मंगल खाना नंबर 4 खाना नंबर 8 में अमूमन बद(बुरा) असर देने वाला होगा पर खाना नंबर 1 2 3 5 6 7 9 10 11 12 में नेक असर देने वाला होगा ।


★बुध खाना नंबर 3 8 9 10 11 12 में अमूमन मन्दा असर देने वाला होगा  पर हमेशा मंदा ना होगा- खाना नंबर 1 2 4 5 6 7 में नेक असर  देने वाला होगा।

★ शनिचर खाना नंबर 1 4 5 6 में मन्दे असर का होगा और खाना नंबर 2 3 7 8 9 10 11 12 में अमूमन नेक मायने  का होगा ।

★राहु खाना नंबर 1 2 5 7 आठ नौ दस 11 12 में मंदे असर का होगा और खाना नंबर 3 4 6 में अमूमन नेक असर देने वाला होगा ।

★केतु खाना नंबर 3 4 5 6 और आठ में मन्दा असर देने वाला होगा और खाना नंबर 1 2 7 9 10 11 12 में अमूमन नेक  प्रभाव देने वाला होगा।

■अकेले ग्रह से मतलब है कि वह ग्रह  किसी और ग्रह की किसी तरह से कोई दृष्टि में  ना हो ना ही कोई उसे ग्रह देख रहा हो ऐसे हालात में वह  हर तरह से अकेला बैठा माना जायेगा।

■अमूमन मन्दे असर प्रभाव से मतलब जब ग्रह  किसी ऐसे खाना नंबर में बैठा हो जहां वह नीच माना गया  हो (जैसे की सूरज 1 में दोस्त् मंगल मालिक सूरज का पक्का घर में उच्च और खाना नंबर 7 दुश्मन शुक्र का घर में नीच )। अपने दुश्मन ग्रह के घर में बैठा हो और दुश्मन  ग्रहों की दृष्टि पढ़ रही हो ।


■अमूमन  नेक असर से मतलब  होगा कि- जहां वह ग्रह अपने पक्के खाना नंबर में बैठा हो या  किसी दोस्त ग्रह की खाना नंबर में बैठा हो । या जो खाना नंबर  उस ग्रह के लिए उच्च मुक़र्रर किये  है जैसे कि खाना नंबर 1 मंगल के लिए खाना नंबर 5 सूरज के लिए बृहस्पति के लिए 5  में बैठा हो ।
धन्यवाद

0 Comments:

Post a Comment